वाराणसी अपडेट

वाराणसी: बीएचयू में दिखा सर्जिकल स्ट्राइक!

नील दुबे 

वाराणसी: बीएचयू में आज ब्रिगेडियर प्रबीर बारिक द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक पर एक कार्यक्रम हुआ. इस कार्यक्रम में सर्जिकल स्ट्राइक की शुरुआत से लेकर अंत तक के घटनाक्रम को प्रोजेक्टर द्वारा दिखाया गया. पूरे वीडियो को दिखाने के बाद ब्रिगेडियर बारिक ने सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान हुई समस्याओं से लेकर सेना के कठिन जीवन को सभागार में बैठे सभी लोगों के सामने रखा. उन्होंने सेना के कार्यों की बारीकियां बताई और सर्जिकल स्ट्राइक के फायदे गिनाए.

यह भी पढ़ें: बीएचयू बवाल में डॉक्टर ने की थी पहले गलती, यहाँ देंखे वीडियो
उन्होंने बताया कि 29 सितंबर 2016 को हुए सर्जिकल स्ट्राइक को पहले तो पाकिस्तान ने स्वीकारा ही नहीं जबकि बाद में उसकी बौखलाहट सामने आयी. ब्रिगेडियर ने बताया कि लांच पैड से पाकिस्तान को 10 से 15 किलोमीटर पीछे हटना पड़ा जिससे  पाकिस्तान को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा और आतंकवादियों के ठिकानों को भी खत्म कर दिया गया. उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक से जनता का सरकार के प्रति विश्वास पैदा हुआ. इस कार्यक्रम के अंत में ब्रिगेडियर से छात्रों और एनसीसी के छात्रों और अन्य लोगों ने सवाल पूछे जिसमें एक छात्र ने इजराइल की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कार्यप्रणाली की तुलना भारत के कार्यप्रणाली से करते हुए सवाल किया. जिसके जवाब में ब्रिगेडियर ने कहा कि “हम हिंदुस्तानी है और हमारा दिल भी हिंदुस्तानी है”. जिसे सुनते ही पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा.

यह भी पढ़ें: बीएचयू हॉस्टल में पुलिस का पहरा, छात्र इंतजार में
इसके बाद कार्यक्रम के थीम को लेकर बनाए गए पोस्टर्स पर पुरस्कार भी प्रस्तुत किए गए. जिसमें प्रथम स्थान पर रश्मि सिंह, रिचा प्रसाद,आशुतोष राय और द्वितीय स्थान पर प्रिंस, रुचि सिंह तथा तीसरे स्थान पर अमित पांडे और निशिता कश्यप रहीं. इस कार्यक्रम में कर्नल विनय शर्मा जो बीएचयू के एनसीसी में ट्रेनिंग ऑफिसर हैं और कर्नल सुधीर सिंह भी मौजूद रहें. इनके साथ विज्ञान संकाय के डायरेक्टर नवीन कुमार और प्रोफेसर मल्लिका अर्जुन भी मौजूद रहें. इस कार्यक्रम में करीब 100 एनसीसी और करीब 100 एनएसएस के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया.

हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Posts