उत्तराखंड खास खबर नई दिल्ली यूपी राष्ट्रीय

Breaking: दिल्‍ली एनसीआर में भूकंप के तगड़े झटके, उत्‍तर प्रदेश के बागपत में था केंद्र

नई दिल्ली: दिल्‍ली एनसीआर में बुधवार सुबह 7:59 बजे भूकंप के तगड़े झटके महसूस किए गए. भूकंप से अभी कोई जान-माल के नुकसान की सूचना नहीं आई है. IMD के अनुसार, रिक्‍टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 4.6 मापी गई है. भूकंप का केंद्र उत्‍तर प्रदेश के बागपत जिले में बताया जा रहा है. पहले यह रिपोर्ट आई थी कि भूकंप का केंद्र तजाकिस्‍तान के कोफरनिहॉन में 10 किलोमीटर की गहराई में था. झटका महसूस होते ही घरों में सो रहे लोग बाहर निकल भागे. बताया जा रहा है कि महाराष्‍ट्र के कोस्‍टल इलाकों में भूकंप के झटके महसूस किए. इससे पहले 18 फरवरी को जम्‍मू और कश्‍मीर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. वहां भूकंप की तीव्रता 5.6 दर्ज की गई थी.

बता दें कि 12 फरवरी को बंगाल की खाड़ी में भूकंप आया था, जिसके झटके चेन्‍नई और आसपास के जिलों में महसूस किया गया था. उससे पहले 2 जनवरी की शाम को दिल्‍ली एनसीआर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. इस भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.2 दर्ज की गई थी और इसका केंद्र हिंदुकुश पर्वत क्षेत्र बताया गया था.

महाराष्‍ट्र की बात करें तो पिछले 2 फरवरी को वहां का पालघर जिला भूकंप के झटके से दहल उठा था. बताया गया कि वहां 6 बार भूकंप के झटके लगे. इस बीच दो साल की बच्ची की मौत भी हो गई.1 फरवरी पालघर जिले के कई जगहों पर भूकंप के झटके महसूस किए गए. पहला झटका दोपहर 2.06 बजे रिएक्टर स्केल पर 4.1 तीव्रता से आई, जबकि दूसरा झटका 3.53 बजे 3.6 तीव्रता से आई, वहीं लोगों ने तीसरा झटका 4.57 बजे 3.5 की तीव्रता से महसूस की.

भूकंप आए तो क्‍या करें-

1. भूकंप महसूस होते ही घर से निकलकर खुली जगह पर चले जाएं. अगर गली काफी संकरी हो और दोनों ही ओर बहुमंजिला इमारतें बनी हों, तो बाहर निकलने से कोई फायदा नहीं होगा. तब घर में ही सुरक्ष‍ित ठिकाने पर रहें.

2. अगर घर से बाहर निकलने में काफी वक्त लगने का अनुमान हो, तो कमरे के कोने में या किसी मजबूत फर्नीचर के नीचे छुप जाएं. सिर के साथ-साथ शरीर के अन्य संवेदनशील अंगों को पहले बचाने की कोशिश करें.

3. घर के बाहर निकलकर कभी भी बिजली, टेलीफोन के खंभे या पेड़-पौधों के नीचे न खड़े हों.

4. भूकंप महसूस होते ही टीवी, फ्रिज, जैसे बिजली के सारे उपकरण प्लग से निकाल दें.

5. एक बार बहुत तेज भूकंप आने के बाद कुछ घंटों तक आफ्टर शॉक्स आ सकते हैं. इनसे बचने का इंतजाम पहले ही कर लें. आफ्टर शॉक्स आने की कोई तय मियाद नहीं होती है, इसलिए अफवाहों पर बिल‍कुल ही ध्यान न दें.

 

Related Posts