April 18, 2021
लाइफ स्टाइल

चाणक्य नीति: ये 3 चीजें ही पति-पत्नी का रिश्ता बनाती हैं मजबूत, आप भी जान लें सुखद वैवाहिक जीवन का राज

आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में सुखद वैवाहिक जीवन का राज बताया है। चाणक्य ने पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत बनाने की कई नीतियां नीति शास्त्र में लिखी हैं। चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी का रिश्ता विश्वास यानी भरोसे पर टिका होता है। जब रिश्ते में भरोसे की कमी होने लगती है तो वैवाहिक जीवन में तनाव और कलह की स्थिति पैदा हो जाती है। अगर स्थिति को समय रहते नहीं सुधारा गया तो फिर पति-पत्नी का टूटने की कगार पर पहुंच सकता है। चाणक्य कहते हैं कि हर पति-पत्नी को दांपत्य जीवन को सुखद बनाने का प्रयास करते रहना चाहिए।

चाणक्य की गिनती महान शिक्षाविद और अर्थशास्त्री के रूप में की जाती है। चाणक्य ने दांपत्य जीवन को सुखद व प्रभावित करने वाली बातों का जिक्र नीति शास्त्र में किया है। चाणक्य के अनुसार, जानिए कैसे दांपत्य जीवन को बना सकते हैं सुखी, क्या है इसका राज-

1. एक-दूसरे को समझने की कोशिश करें- चाणक्य कहते हैं कि पति-पत्नी के रिश्ते की अहम चीज सम्मान होती है। जो पति-पत्नी एक-दूसरे का मान-सम्मावन नहीं करते हैं और दूसरों के सामने एक-दूसरे को नीचा दिखाते हैं। उनका वैवाहिक जीवन दुखों और मुश्किलों से भरा होता है। इसलिए दांपत्य जीवन को सुखी बनाने के लिए पति-पत्नी का एक-दूसरे को सम्मान देना जरूरी है।

2. बातचीत न करें बंद- चाणक्य कहते हैं कि किसी भी मसले को संवाद से हल किया जा सकता है। संवाद वह प्रक्रिया जो बड़ी समस्या को दूर करने का माध्यम बनता है। इसलिए किसी भी तरह की परेशानी आने पर पति-पत्नी को खुलकर बात करनी चाहिए।

3. सच को अपनाएं– चाणक्य कहते हैं पति-पत्नी के रिश्ते में सच की खास भूमिका है। झूठ पर टिका रिश्ता कुछ समय के बाद बिखर जाता है। इसलिए जीवन का सच्चा आनंद उठाने के लिए पति-पत्नी को सच का रास्ता अपनाना चाहिए।

Related Posts