धर्म नई दिल्ली पंजाब राष्ट्रीय

‘अब कभी भक्तों की गोद में नहीं बैठूंगी’, जूना अखाड़े में वापसी के लिए राधे मां ने खाई कसम

नई दिल्ली: अपने डांस और बयानों को लेकर अक्सर विवादों में रहने वाली धर्मगुरु राधे मां एक बार फिर सुर्खियों में हैं. राधे मां ने कसम खाई है कि अब वो कभी अपने भक्तों की गोद में बैठकर डांस नहीं करेंगी. दरअसल, राधे मां की जूना अखाड़े में वापसी हो गई है. राधे मां ने इसके लिए एक लिखित माफीनामा दिया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि भविष्य में वो ऐसा कोई काम नहीं करेंगी, जो अखाड़े के नियमों के खिलाफ हो. माफीनामे के बाद जूना अखाड़े ने ना केवल राधे मां का निलंबन रद्द कर दिया है, बल्कि उन्हें उनकी महामंडलेश्वर की पदवी भी वापस दे दी है.

ये भी पढ़ें: जब कलेक्टर अपने सुरक्षाकर्मी से कहा, ‘गोली मार देना अगर कोई मेरी बात न सुने तो’

माफीनामे में राधे मां ने क्या लिखा?- आपको बता दें कि पिछले दिनों अखाड़े की तरफ से ढोंगी बाबाओं और संतों को लेकर एक लिस्ट जारी की गई थी, जिसमें राधे मां का नाम भी शामिल था. राधे मां के अलावा पायलट बाबा की भी अखाड़े में वापसी हुई है. राधे मां ने जूना अखाड़े को एक लिखित माफीनामा दिया है. राधे मां ने लिखित तौर पर माफी मांगते हुए कसम खाकर कहा है कि अब वो कभी भक्तों की गोद में बैठकर डांस नहीं करेंगी. राधा मां ने कहा है कि उनकी तरफ से ऐसा काम नहीं किया जाएगा, जिससे अखाड़े के नियम टूटें. माफी के बाद राधे मां अब 25 दिसंबर को प्रयागराज कुंभ मेले में जूना अखाड़े की पेशवाई में शामिल होंगी.

ये भी पढ़ें: 10 दिनों में 125 महिलाओं, युवतियों के साथ रेप, मासूम बच्चियों को भी नहीं बख्शा

धर्मगुरु ने क्या कहा?- राधे मां की वापसी पर विवाद अखाड़े में वापसी के बाद अब कुंभ मेले में महामंडलेश्वर के तौर पर राधे मां को जमीन और दूसरी अन्य सुविधाएं मिलेंगी. हालांकि अखाड़े में राधे मां की वापसी को लेकर विवाद भी हो रहा है. राधे मां को फिर से अखाड़े में शामिल करने पर कुछ संतों ने विरोध जताया है. जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी ने अखाड़े से प्रार्थना की है कि वह अपने इस फैसले पर फिर से विचार करे. हालांकि अखाड़ा अपने फैसले लेने में स्वतंत्र है लेकिन बताया जा रहा है कि राधे मां की वापसी के फैसले में आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी को नहीं बताया गया था.

ये भी पढ़ें: Black Money: स्विट्जरलैंड सरकार 2 भारतीय कम्पनी और तीन लोगों के बारे में देगी जानकारी

कौन हैं राधे मां- आपको बता दें कि राधे मां असली नाम सुखविंदर कौर है. राधे मां का जन्म पंजाब के दोरांगला गांव में हुआ था. बताया जाता है कि 17 साल की उम्र में उनकी शादी मोहन सिंह नामक शख्स से हुई थी लेकिन शादी के चार साल बाद उन्हें और उनके दो बच्चों को पति छोड़कर चला गया था. कहा जाता है कि वो शुरू से ही भगवान की भक्ति में में व्यस्त रहती थीं, इसलिए जब पति उन्हें छोड़कर गया तो उन्होंने गुरु मां बनने का फैसला किया. राधे मां लाल रंग के कपड़े पहनती हैं और उनके हाथ में हमेशा एक त्रिशूल रहता है. उनके भक्त कहते हैं कि वो इसी के जरिए मां दुर्गा से साक्षात्कार करती हैं.

ये भी पढ़ें: यूपी पुलिस का हाल, नाबालिग से बाइक साफ करवा रहे चौकी इंचार्ज, वीडियो वायरल

डॉली बिंद्रा ने लगाया बड़ा आरोप पिछले दिनों डॉली बिंद्रा ने राधे मां पर आरोप लगाया था कि उन्होंने चंडीगढ़ में एक बड़े पुलिस अधिकारी के आवास पर उनका यौन शोषण करवाया था. बिंद्रा ने इस बारे में एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि साल 2015 में राधे मां और उनके भक्तों ने उन्हें चंडीगढ़ स्थित पंजाब पुलिस के एक बड़े अधिकारी के आवास पर यौन उत्पीड़न का शिकार बनाया था. इसके खिलाफ उन्होंने तुरंत आवाज उठाई थी, लेकिन राधे मां और पुलिस अधिकारी की ऊंची पहुंच की चलते मामला रफा-दफा हो गया. बिंद्रा ने कहा था कि उन्होंने अपने साथ हुई गंदी हरकत की शिकायत यूटी पुलिस में भी दर्ज करवाई थी लेकिन पुलिस ने इस मामले में कोई कदम नहीं उठाया.

 

हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Posts