July 4, 2020
वाराणसी अपडेट

बनारस का विकास-सड़क किनारे साल भर से बन रहा नाला

बनारस के विकास के लिए केंद्र से लेकर राज्य सरकार प्रयासरत है। पिछले छः साल में अरबो रुपये वाराणसी के विकास के लिए आए। लेकिन स्थानीय प्रशासन और कार्यदायी संस्थाओं की लापरवाही के चलते जो दिखना चाहिए वह दिख नहीं रहा। आलम यह है कि ऐसे इलाकों की कमी नहीं जहां पिच रोड तो बन गई पर जलनिकासी का कोई साधन नहीं। सड़क से सटे न पटरी है न नाली। सड़क भी इतनी ऊंची बना दी गई कि लोग परेशान हैं। उनके घरों और दुकानों में बरसात का पानी घुसने लगा है। दुकानदारी चौपट हो गई है। ग्राहक पहुंच ही नहीं पा रहे। दुर्घटनाएं रोज हो रही हैं सो अलग से।

बता दें कि लोक निर्माण विभाग ने पीएम मोदी के बतौर सांसद आदर्श गांव जयापुर जाने वाली जक्खिनी पंचकोशी मार्ग एनएच 2 पुरानी पुलिस चौकी राजातालाब से कचनार वाया रानीबाजार रेलवे क्रॉसिंग तक लगभग 500 मीटर में सीसी रोड़ का निर्माण कराया है। ठेकेदार ने रोड तो बना दी लेकिन रोड के दोनों ओर राजातालाब बाजार के उक्त मुख्य मार्ग में बनाए गए सीसी रोड़ की साइड नहीं बनाने और निर्माणाधीन अधूरे नाले से वाहन चालकों और स्थानीय नागरिकों, राहगीरों को परेशानी उठानी पड़ रही है। इतना ही नहीं वाहनों की आवाजाही के बाद हाल ही में बनी सीसी रोड भी क्षतिग्रस्त होने लगी है। आलम यह कि सीसी रोड से सटे क्षेत्र में मिट्‌टी, गिट्टी, मोरन का भरान तक नहीं किया है ताकि पूरा मार्ग समतल व समान हो सके। ऐसे में इस रोड पर वाहन फंस रहे हैं। मार्ग पर जाम लग रहा है तो लोगों की दिक्कत और बढ़ जा रही है। इस मामले में क्षेत्रीय लोगों ने कई बार लिखित मौखिक, टेलीफोनिक, आनलाइन के जरिए डीएम, सीएम, पीएम तक भी शिकायत की है। लेकिन आज तक कुछ नहीं हुआ समस्या जस का तस है।

उक्त सड़क की चौड़ाई लगभग पांच मीटर है। यानी दो वाहन एक साथ निकल पाना मुश्किल है। इस पर भी ठेकेदार ने साइड फिलिंग नहीं की है। इसके चलते इस रोड पर चलना खतरनाक साबित हो रहा है। वाहन चालक ओवरटेक करने की स्थिति में रोजाना दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं। मानक का खयाल नहीं। नतीजा जनता भुगत रही है। लोग उमस से परेशान बारिश की कामना तो कर रहे थे पर हल्की सी बारिश के बाद पानी घरों में प्रवेश कर जा रहा है। संडास की गंदगी ओवरफ्लो करने लग रही है। अब लोग जाएं तो कहां जाएं। ऐसी ही बानगी देखने को मिल रही है राजातालाब क्षेत्र में।

ग्रामीणों ने बताया कि राजातालाब एनएच दो से लेकर राजातालाब जक्खिनी- पंचकोशी मार्ग रानीबाजार तक अलग- अलग बस्तियों में जाने के लिए बङी मशक्कत कर निकल रहे हैं। इन बस्तियों में जाने के लिए वाहन चालकों को रोड के साइड से वाहन निकालने पड़ रहे हैं। कार और अन्य बड़े वाहनों को यहां से निकलने में ज्यादा ही दिक्कत हो रही है। डायवर्ट रोड खराब होने से कार आदि फंस रही है। बाइक सवार भी गिर रहे हैं।

कमलेश केशरी, प्रभुनाथ, कैलाश, बजरंगी, प्रेमचंद्र, मंगल, जीउत, मुरारी लाल, संजीव, श्याम सुंदर गुप्ता, जय प्रकाश जायसवाल, अवधेश केशरी, मंसाराम केसरी, कृष्णा प्रसाद जायसवाल, चंद्रशेखर जायसवाल, हरी ओम गुप्ता आदि स्थानीय व्यापारियों का कहना है कि लाक डाउन के चलते अनलाक 1 में भी मंदी के इस दौर में रोजी-रोजगार वैसे ही चौपट है, जो कुछ ग्राहक आ सकते हैं वो भी जल भराव के चलते नहीं आ रहे। दुकानदारी बुरी तरह से चौपट हो रही है।

बता दें कि राजातालाब में लाखों रुपए की लागत से विगत एक साल पहले ही सीसी रोड का निर्माण हुआ है। सड़क तो बन गई पर इस दौरान यहां नाली का निर्माण सड़क के दोनों तरफ अभी तक नहीं हो सका है। इतना ही नहीं कार्यदायी संस्था की लापरवाही के चलते ठेकेदार सड़क की साइड फिलिंग, मिट्टी मोरम, बालू गिट्टी का भराव नहीं किए, नतीजा लगातार हो रही बारिश के कारण लोगों के घरों व घर जाने वाले रास्तो में वर्षा का पानी घुस जा रहा है, जिससे उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

स्थानीय निवासी स्वतंत्र रूप से सामाजिक कार्य करने वाले और आरजीलाइन ब्लॉक के पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य राजुकमार गुप्ता कहते हैं कि, ‘जब से भाजपा की सरकार आई है तब से सड़कों की हालत काफी खराब हो गई है.’ राजुकमार यहीं का उदाहरण देते हुए बताते हैं, ‘जब से ये सरकार आई है तब से यहां की जितनी भी अच्छी-ख़ासी सड़कें थी उन्हें भी खोदकर गड्ढायुक्त कर दिया गया है. सड़क पर नाले बनाए जा रहे हैं, जो कि एक साल से अधूरे पड़े हैं. नाले और सड़क के गड्ढों में पानी सड़कर बजबजा रहा है. लोग बीमार हो रहे हैं. 24 घंटे दुर्घटना की आशंका बनी रहती है, लोग गिरते-पड़ते इस सड़क से गुजरते हैं. इस सड़क पर कई दुर्घटनाएं भी हो चुकी हैं. ट्रक की पहिए धंसने से लेकर एक महिला की मौत तक हो चुकी है.’बता दें कि यह वीआईपी सड़क पीएम मोदी के गोद लिए गांव जयापुर जाने के लिए प्रमुख सड़क है. यही सड़क स्थानीय सेवापुरी विधायक नील रतन पटेल नीलू के गांव शहंशाहपुर को जाती है. कुछ साल पहले इसी सड़क से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पंचकोशी यात्रा कर चुके हैं, वहीं प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने ‘रन फॉर यूनिटी’ कार्यक्रम के दौरान यहीं से पदयात्रा की थी. सीएम के यहां आने से एक दिन पहले इस सड़क को पूरी तरह चमका दिया गया था लेकिन सड़क दूसरे दिन ही उखड़ गई, जिसके बाद स्थानीय लोगों ने इसे बनाने के लिए कई बार प्रदर्शन किया. एसडीएम राजातालाब, डीएम वाराणसी, पीएमओ वाराणसी (रविंद्रपुरी), जनसुनवाई, पीजी पोर्टल पर शिकायत करने के अलावा, मुख्यमंत्री योगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मेल और ट्वीट किया गया. उसके बाद भी कोई सुनवाई नहीं हुई तो हाईकोर्ट में मुकदमा दाखिल कर दिया गया. राजकुमार गुप्ता आगे बताते हैं, ‘मोदी सरकार के आने के बाद स्थिति में सुधार तो नहीं हुआ लेकिन हालात और बदतर जरूर हुए हैं. सीवर, पानी, गंदगी, तालाब सभी जगह प्रदूषण ही प्रदूषण है. ये सरकार वाले केवल वादे करते हैं, जुमले बोलते हैं. विकास के नाम पर आए थे , विकास के नाम पर कुछ नहीं. मोदी सरकार हर मोर्चे पर विफल है. इतनी सारी घोषणाएं और जो वादे किए गए, सब खोखले हो गए हैं।

Related Posts