December 5, 2020
उत्तर प्रदेश

अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त काशी की देव दीपावली को कोरोना से बचाव के साथ भव्यता से मनाये जाने के लिए अधिकारियों ने किया मंथन

धार्मिक एवं पर्यटन नगरी काशी के जान्हवी तट पर देव दीपावली का होगा भव्य आयोजन

देव दीपावली पर्व पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शिरकत कर सकते हैं

काशी में जान्हवी के 84 घाटों के तारतम्यता के अर्द्धचंद्राकार घाटों पर 30 नवम्बर कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर मनाए जाने वाले देव दीपावली पर्व को अयोध्या में हुए दीपोत्सव कार्यक्रम की अपेक्षा इस बार काशी में काफी बड़े पैमाने पर पूरी भव्यता के साथ मनाया जाएगा। इस वर्ष देव दीपावली ना भूतो ना भविष्यति स्तर का ग्रैंड शो होगा। इसमें उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी शिरकत करने की संभावना है। बताते चलें कि देवाधिदेव महादेव श्री काशी विश्वनाथ की नगरी काशी में देव दिवाली पर्व बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। देवों की इस दिवाली पर काशी के अद्भुत छटा बिखेरने वाले गंगा घाटों को दीयों की रोशनी से सजाया जाता है। देव दिवाली की रात पूरा बनारस भी रौशनी से जगमगा उठता है। धार्मिक मान्यता है कि देव दिवाली पर देवलोक से सभी देवता काशी में खुशियां मनाने आते हैं।
कमिश्नर दीपक अग्रवाल की अध्यक्षता में मंगलवार को उनके मंडलीय सभागार में आयोजित बैठक में अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त काशी की देव दीपावली को कोरोना से बचाव के साथ भव्यता से मनाये जाने पर मंथन हुआ। देव दीपावली पर्व के अवसर पर गंगा नदी में पानी की लहरों पर लेजर शो एवं प्रोजेक्शन के माध्यम से काशी की महिमा, शिव की महिमा एवं गंगा अवतरण आदि का भव्य प्रदर्शन होगा। कमिश्नर ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि देव दीपावली पर्व पर घाटों पर आने वाली भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्रमुख रूप से राजघाट, दशाश्वमेध एवं अस्सी घाटों को जाने वाले मार्गों को पूरी तरह “नो व्हीकल जोन” निर्धारित किया जाए तथा इसका कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराया जाए।

इसमें किसी भी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इन मार्गों पर भीड़ नियंत्रित किए जाने हेतु बैरिकेडिंग भी लगाया जाएगा। राजघाट से एयरपोर्ट तक के मार्गो के दोनों तरफ की गलियों को चिन्हित कर सड़क से 8 से 10 मीटर अंदर बैरिकेडिंग कराये जाने का भी निर्देश दिया गया। शहर की इन प्रमुख मार्गों पर सड़कों को पूरी तरह गड्ढा मुक्त किए जाने के साथ ही डिवाइडरो की पेंटिंग एवं सड़कों पर लगे स्ट्रीट लाइटों को पूरी तरह दुरुस्त कराए जाने का संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया। राजघाट से एयरपोर्ट मार्ग के सभी खंभों की लाइटों को दुरुस्त कराए जाने का भी निर्देश दिया। शहर खराब हेरिटेज लाइटों को तत्काल दुरुस्त करा लिया जाए। वाहनों के लिए पार्किंग स्थलों को चिन्हित कर निर्धारित स्थल से 1 किलोमीटर पूर्व से ही साइनेज लगाए जाने का निर्देश दिया गया। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने राजघाट एवं अस्सी घाट से शहर के उन प्रमुख मार्गों पर जहां पर अभी सीसीटीवी कैमरे नहीं लग सके हैं, वहां पर सीसीटीवी कैमरे लगाकर कमांड कंट्रोल सेंटर से भीड़ एवं देव दीपावली के अवसर पर निगरानी किए जाने पर विशेष जोर दिया। सभी गंगा घाटों पर गोताखोरों की तैनाती के साथ ही गंगा नदी में नावों के परिचालन को नियंत्रित किए जाने हेतु कुंभ के दौरान प्रयागराज में किए गए व्यवस्था की भांति ट्रैफिक सिस्टम लागू किए जाने का निर्देश दिया। जिससे नावों को परिचालन के दौरान आपस में टकराने एवं दुर्घटना की संभावना कतई न होने पाए। उन्होंने सभी गंगा घाटों पर ध्वनि विस्तारक यंत्र लगाकर उसका एक ही स्थान पर कंट्रोल रूम स्थापित कर सूचनाओं का प्रसारण किए जाने पर विशेष जोर दिया। देव दीपावली पर्व पर यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ एवं सामान्य बनाए रखने पर विशेष जोर देते हुए रूट डायवर्जन प्लान तैयार कर शहर के सभी होटलों एवं गेस्ट हाउसों में उपलब्ध कराया जाए। ताकि इसकी सूचना प्रबंधकों द्वारा पर्यटको को उपलब्ध कराया जा सके। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने विशेष रूप से जोर देते हुए देव दीपावली पर्व पर गंगा उस पार रेती में भी आकर्षक सजावट एवं दीप जलवाए जाने का निर्देश दिया। इस कार्य में नगर पालिका रामनगर एवं मुगलसराय के साथ-साथ सभी विकास खंडों एवं गंगा समितियों का सहयोग लिया जाएगा।
बैठक में आईजी विजय सिंह मीणा, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, एसएसपी अमित पाठक के अलावा अन्य संबंधित विभागीय अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।
इससे पूर्व कमिश्नर दीपक अग्रवाल व जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने भैंसासुर धाट तथा आस-पास के क्षेत्रों का आगामी छठ तथा देव दीपावली आदि को देखते हुए यह आकस्मिक दौरा किया। विश्व प्रसिद्ध देव दीपावली पर देश-विदेश से लेकर स्थानीय स्तर पर पर्यटकों द्वारा देव दीपावली की रोमांचित कर देने वाली छटा को देखने के लिए अपार जनसमूह उमड़ता है। इस अवसर पर कानून व्यवस्था, सुगमतापूर्वक यातायात संचालन, वीआईपी तथा विदेशी पर्यटकों सहित सबकी सुरक्षा व्यवस्थाओं को सुनिश्चित किये जाने के लिए मार्ग निरधारण, बैरिकेडिंग, प्रकाश व्यवस्था आदि को चाक चौबंद किये जाने हेतु धाट पर स्थित पीडब्ल्यूडी कार्यालय में बैठक कर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

Related Posts