June 2, 2020
कोरोना वाराणसी अपडेट

तेरही पर 1000 दिव्यांग जन को भोजन

दिवंगत बीएचयू प्रोफेसर के परिवार ने पेश कि मानवता की मिसाल—-
काशी हिंदू विश्वविद्यालय में आयुर्वेद संकाय के डीन रहे और कई बार द्रब्य गुण विभाग के अध्यक्ष एवं विश्व के जाने-माने मधुमेह विशेषज्ञ , द वर्ल्ड डायबिटीज एसोसिएशन अमेरिका के मानद डॉक्टर जे के ओझा का निधन कुछ दिन पूर्व हो गया था आज उनकी तेरहवीं थी लाक डाउन और सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए उनके परिवार ने यह निर्णय लिया कि हम 13वीं का कार्यक्रम घर परिवार रिश्तेदारों में न करके वह सामाजिक रूप से करेंगे और जो भी 13वीं का भोजन होगा वह हम प्रवासी मजदूरों , असहाय एवं दिव्यांग जनों को उपलब्ध कराएंगे, लगभग 1000 भोजन का पैकेट बनाकर कुष्ठ आश्रम एवं दिव्यांग जनों को संकट मोचन कुष्ठ आश्रम भदऊ चुंगी कुष्ठ आश्रम, हीरामणपुर आश्रम एवं बाईपास पर बड़ी संख्या में आ रहे प्रवासी मजदूर राजातालाब से रामनगर आने वाली सड़क पर प्रवासी मजदूरों को वितरित किया गया उनके पुत्र डेंटल सर्जन डॉक्टर विधु शेखर ओझा ने बताया कि डॉ जे के ओझा हमारे पिताजी हमेशा गरीब असहाय मजदूरों के लिए कार्य करते रहे उन्होंने कभी उनसे किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया, और उन्हें निशुल्क दवा प्रदान करते थे इसी से प्रेरित होकर हम सब परिवार जनों ने निर्णय लिया कि लाक डाउन सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए हम परिवार रिश्तेदारों मित्रों को ना बुलाकर उनकी स्मृति में हम सब प्रवासी मजदूरों को भोजन कराएंगे ताकि उनकी आत्मा को शांति मिले श्री अन्नम योजना के अंतर्गत यह आयोजन संपन्न कराया , डॉक्टर ओझा के भतीजे एवं श्री अन्नम के संस्थापक डॉ उत्तम ओझा ने बताया कि इस प्रकार की योजना काशी में संचालित होती है जिसके अंतर्गत मृतक के परिवार के लोग के उनकी स्मृति मे कोई पारवारिक कार्यकम न आयोजित करके अपना अंशदान गरीब परिवारों में एवं जरूरतमंद असहाय दिव्यांग लोगों के बीच करते हैं इस अवसर पर उनकी धर्मपत्नी शशि ओझा,डॉ विधु शेखर ओझा, रंजना ओझा(पुत्र-पुत्रवधू) जया मिश्रा , विजया तिवारी( पुत्री)पौत्र आयुष शेखर पौत्री आनविका ओझा ,भाई सुरेंद्र नाथ ओझा, रामेश्वर नाथ ओझा,शिवंगी मिश्रा, लक्ष्मीकांत ओझाएवम समस्त ओझा परिवार सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित रहे

Related Posts