October 26, 2020
देश नई दिल्ली

मेट्रो चली तो किसी को मिली नौकरी, किसी का खत्म हुआ वर्क फ्राम होम

लॉकडाउन में सुस्त पड़ी दिल्ली को मेट्रो ने एक बार फिर रफ्तार दी है। दिल्ली की लाइफ लाइन बन चुकी मेट्रो के चलने से किसी ने लंबे समय से टाल रही नकरी ज्वाइन कर लिया है। किसी का घर जो ऑफिस बना हुआ अब वह ऑफिस जाकर काम करेंगे। मेट्रो की कनेक्टविटी अब लोगों का वर्क फ्राम होम भी खत्म कर रहा है।

7 सितंबर से मेट्रो चरणबद्ध तरीके से खुल रही है। उसके साथ ही मेट्रो में भीड़ भी बढ़ी है। पहले दिन जहां 15 हजार लोगों ने सफर किया था वह आंकड़ा अब एक लाख को पार कर चुका है। लगभग सभी नेटवर्क खुलने के बाद शुक्रवार को हिंदुस्तान संवाददाताओं ने कुछ स्टेशनों की लाइव रिपोर्ट लेने के साथ यात्रियों के साथ उनके अनुभवों व बदलावों पर बात की। पेश है रिपोर्ट…।

अब खत्म हो जाएगा वर्क फ्राम होम, रोज जाना होगा ऑफिस
मजेंटा लाइन पर शुक्रवार को परिचालन शुरू होने के साथ हौज खास इंटरचेंज स्टेशन चालू हो गया है। दक्षिणी दिल्ली का सबसे बड़े इंटरचेंज स्टेशन आम दिनों में 1.50 लाख से अधिक यात्रियों की आवाजाही है। मगर आज करीब साढ़े दस बजे यहां भीड़ ना के बराबर है। मजेंटा लाइन व यलो लाइन यहां पर जुड़ती है। यलो लाइन पर जहां थोड़ी भीड़ है वहीं मजेंटा लाइन के स्टेशन खाली है। मजेंटा लाइन पर मेट्रो की ओर से तैनात कर्मियों की संख्या भी यात्रियों की संख्या से अधिक दिख रही है। वहीं यलो लाइन पर तब भी भीड़ है।

काजल गुलाटी गुरूग्राम में रहती है नोएडा में एक मल्टी नेशनल कंपनी में प्रबंधन विभाग में काम करती है। वह यलो लाइन से उतरकर मजेंटा लाइन पर जा रही है। उन्होंने कहा कि आज खुश हूं क्योंकि बगैर ट्रैफिक के शोर के मैं ऑफिस तक पहुंच सकती हूं। मजेंटा लाइन पर भीड़ देखकर वह हंसते हुए कहती है कि लगता है कि मेट्रो मेरे लिए ही चली है। क्योंकि ट्रेन में उस समय करीब 15-20 लोग ही सफर कर रहे थे। काजल बताती है कि मेट्रो ने पहले हफ्ते में 2 से 3 दिन घर से काम की छूट दी थी। अब यह खत्म हो जाएगा। रोज ऑफिस जाना होगा।

दिल्ली मेट्रो की एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर शनिवार से मेट्रो का परिचालन शुरू हो गया है। इसी के साथ दिल्ली मेट्रो की सभी लाइनों पर मेट्रो की आवाजाही शुरू गई है। शनिवार से सभी लाइनों पर सुबह 6 बजे से रात 11 बजे तक मेट्रो सेवा उपलब्ध रहेगी यानि यात्री दिनभर यात्रा कर सकेंगे।

सभी लाइनों पर मेट्रो सेवा शुरू होने पर दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) ने यात्रियों से दिशा-निर्देशों का पालन याद रखने की सलाह दी है।
डीएमआरसी ने ट्वीट कर कहा, ”एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर सेवा फिर से शुरू होने के साथ, दिल्ली मेट्रो नेटवर्क की सभी लाइनें अब खुली हैं! यात्रा करते समय दिशा-निर्देशों का पालन करना याद रखें।”

मेट्रो चलने के साथ मैंने शुरू कर दी नौकरी
लॉकडाउन के बाद खुली दिल्ली को मेट्रो ने रफ्तार दे दी है। एनसीआर के आवाजाही के बीच अब मेट्रो से नौकरी ढूढ़ने व करने में भी आसानी हुई है। फरीदाबाद के पर्वतीय कालोनी के रहने वाले नीरज की लाटरी लग गई है। वेलकम स्टेशन पर मिले नीरज बताते है कि वह वह लंबे समय से नौकरी की तलाश कर रहे थे। शाहदरा में उन्हें एक कंपनी में नौकरी मिली। मगर फरीदाबाद से शाहदरा आना आसान नहीं था। कई बस बदलनी पड़ती थी तब पहुंचता था, जिससे कोरोना संक्रमण होने का खतरा भी बना रहता था। जिसके चलते मैं नौकरी नहीं शुरू कर पा रहा था और मेट्रो चलने का इंतजार कर रहा था। अब मेट्रो चल गई है तो सिर्फ एक जगह कश्मीरी गेट से मेट्रो बदलकर मैं आसानी से शाहदरा पहुंच सकता हूं। मेट्रो में संक्रमण का खतरा नहीं है। यहां सुरक्षा के बहुत अच्छे उपाय है। जगह-जगह सैनिटाइज लगा हुआ है। नीरज कहते है पहले मैं चांदनी चौक में काम करता था तो वहां भी मेट्रो से आवाजाही करता था।

मेट्रो नेटवर्क खुलते ही बढ़ रही भीड़
यहां गेट पर लाइन में यात्रियों को अंदर भेजा जा रहा था। रोककर यात्रियों का भेजकर सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जा रही थी। गेट पर ही शरीर का तापमान की जांच की जा रही थी। जिन लोगों ने मास्क ठीक से नहीं लगाया था उन्हें मुंह, नाक ढककर मास्क ठीक करवाकर अंदर भेजा जा रहा था। लोगों के लिए सेनेटाइज की भी व्यवस्था थी। मेट्रो कर्मचारियों ने बताया की गुरुवार के मुकाबले शुक्रवार को सुबह यात्रियों की संख्या बढ़ी है। पहले जहां 9 बजे बाद यात्री अधिक संख्या में आते थे। अब सुबह आठ बजे से 20 से 25 यात्री प्रवेश कर चुकें हैं। पहले दिन बिना कार्ड के लोग भी पहुंच रहे थे। यात्रियों को पता चल गया है कि प्रवेश के लिए आरोग्य सेतु एप जरूरी है। अब लोग इसे डाउनलोड करके ही आ रहें हैं। पहले दिन बिना एप के कई लोग पहुंचे थे। स्टेशन परिसर में कर्मचारी सफाई करते दिखे। एएफसी गेट, प्लेटफार्म पर अतिरिक्ति सिक्योरिटी गार्ड व मेट्रो कर्मचारी तैनात थे जो लोगों को सामाजिक दूरी बनाए रखने के बारे में हिदायत देते दिखाई पड़े। लगातार लाउडस्पीकर से बैठने, चलने व अन्य जानकारी की घोषणा हो रही थी।

न के बराबर यात्री पहुंच रहे हैं यमुना बैंक पर
पूर्वी दिल्ली के प्रमुख इंटरचेंज यमुना बैंक मेट्रो स्टेशन पर बेहद कम यात्रियों की संख्या है। यमुना बैंक मेट्रो स्टेशन से नोएडा और वैशाली जाने के लिए मेट्रो बदल सकते हैं। शुक्रवार को यमुना बैंक मेट्रो स्टेशन पर बाराखंभा मेट्रो स्टेशन से नोएडा जाने वाले यात्री अमन ने बताया कि मेट्रो में पहले दो दिन के मुकाबले भीड़ बढ़ रही है। हालांकि, यमुना बैंक मेट्रो स्टेशन पर भीड़ कम है। इस स्टेशन पर यात्रा शुरु करने वाले यात्रियों की भीड़ भी बहुत कम है। मेट्रो स्टेशन में परिसर के समय लोगों की थर्मल स्कैनिंग और हाथों को सैनेटाइज करवाया जा रहा है। स्टेशन परिसर में प्रवेश के समय यात्रियों के फोन में आरोग्य सेतु एप की भी जांच की जा रही है।

राजौरी गार्डेन पर पहले से बढ़ी चहल-पहल
मेट्रो चलने के साथ ही राजौरी गार्डेन मेट्रो स्टेशन पर चहल-पहल बढ़ने लगी है। शुक्रवार के दिन शाम के साढ़े चार बजे मेट्रो पकड़ने या फिर मेट्रो लाइन बदलने वाले यात्री पहले के मुकाबले ज्यादा दिखे। हालांकि, कोविड संक्रमण से पहले की तुलना में अभी भी प्लेटेफार्म और गलियारों में सन्नाटा छाया हुआ है।

राजौरी गार्डेन मेट्रो स्टेशन पर ब्लू लाइन और पिंक लाइन का संगम होता है। अलग-अलग लाइन की मेट्रो बदलने के लिए यहां पर सामान्य दिनों में लाखों लोगों की हर दिन आमद होती है। लेकिन, इन दिनों यहां पर सन्नाटा जैसा है। हालांकि, मेट्रो चलने के दो दिन के भीतर ही लोगों की संख्या बढ़ी है। मेट्रो से यात्रा करने वाले संदीप निजी कंपनी में काम करते हैं। उनका कहना है कि कोविड-19 के बाद अब धीरे-धीरे खुल गया है। ऐसे में मेट्रो को भी खोल देना उचित फैसला है। इससे लोग ज्यादा सुरक्षित और आसान तरीके से अपने गंतव्य तक जा सकेंगे। कोविड संक्रमण से बचाने के लिए मेट्रो द्वारा किए जाने वाले उपायों पर भी उन्होंने संतोष व्यक्त किया।

Courtesy :https://www.livehinustan.com/

Related Posts